Search

DHOSA : 15 मिनट में मसाला डोसा बनाने की विधि, आज के बाद नहीं करेंगे ग़लती

DHOSA उत्कृष्ट दाल-चावल मिश्रण:

दक्षिण भारतीय रसोईघरों में प्रमुख रूप से उपयोग होने वाला एक पॉपुलर दाल-चावल का उत्तम मिश्रण है ढोसा। इसमें उड़द दाल और चावल को सही मात्रा में मिलाकर एक सुपर फर्मेंटेड बैटर तैयार किया जाता है, जिससे बने ढोसा ठेले जैसे हैं। ढोसा बनाने के लिए सबसे पहले, हमने बड़े बाउल में आधा कप उड़द दाल और दो तरीके की आर्थिक होने वाले चावल डाले। इसके बाद, हमने इन्हें धोकर एक साथ पीसा बना लिया और उसे प्लेट में रख दिया।

DHOSA

स्वादिष्ट और क्रिस्पी DHOSA बनाने का सीधा तरीका:

इस प्रक्रिया में, हमने डाल और चावल को ठंडा करने के बाद पानी डाला, और इसे धीरे-धीरे मिक्स किया। इसके बाद, हमने इसे घंटे तक फूलने के लिए रखा, ताकि बैटर अच्छे से फर्मेंट हो सके। ध्यान देने योग्य है कि धोए जाने वाले चावल और दाल की पॉलिश को हटाने के लिए धोना महत्वपूर्ण है। फर्मेंटेशन के बाद, हमने बैटर को पीसा लिया और इसमें थोड़ा पानी और नमक जोड़ा। यह सुनहरा बैटर तैयार है, जिसे एक्स्ट्रा इनिंग जार में डालकर आलू का टुकड़ा और हरी धनिया पत्तियां मिलाईं।

 

खुशबूदार राई और हरी मिर्च के साथ तला हुआ DHOSA:

तब तक तेल गरम करें जब तक राई, उड़द दाल, और कटी हुई हरी मिर्च खुशबू देने लगें। इसमें हल्दी और लाल मिर्च डालकर स्वाद के अनुसार बनाएं और उसमें बैटर डालकर धीरे से मिलाएं। अब, बैटर को थोड़े समय के लिए ढककर रखें ताकि वह पूरी तरह से तैयार हो सके। साथ ही, एक पैन में तेल गरम करें और बैटर को धीरे-धीरे उसमें छोड़ें। ढोसा को दोनों ओर से सुनहरा और कुरकुरा बनाएं, और उसे हरी धनिया की चटनी और सांबार के साथ सर्व करें।

 

राई, हरी मिर्च, और धनिया-पुदीना चटनी के साथ DOSHA :

इसमें डाली गई राई और हरी मिर्च की खुशबू, ताजगी भरी धनिया-पुदीना चटनी, और रिच सांबार के साथ DHOSA एक पूर्ण भोजन को संपन्न करता है। समाप्त करते समय, यह आपको सुनहरे रंग के, रिच फ्लेवर वाले ढोसा प्रदान करेगा, जिसे बनाना और सर्व करना बहुत ही सरल है।

भारतीय रसोईघरों का आरोग्यप्रद:

दक्षिण भारतीय रसोईघरों का अद्वितीय स्वाद और आरोग्य के लाभ के साथ, ढोसा एक लोकप्रिय और पसंदीदा व्यंजन है। इसे बनाना भी सीखना आसान है और घर पर बनाकर स्वादिष्ट भोजन का आनंद लेना अद्वितीय है। ढोसा की खुशबू, कुरकुरी चटकारी और उसके साथ मिलने वाली चटनी और सांबार का स्वाद जिंदगी को रंगीन बना देता है।

दक्षिण भारतीय स्वाद और फर्मेंटेशन के सही मिश्रण:

DHOSA बनाने में अपने दक्षिण भारतीय स्वाद को अपनाएं, और बैटर में उड़द दाल और चावल को सही राशि में मिलाएं। इसमें फर्मेंटेशन की प्रक्रिया को ध्यानपूर्वक करें ताकि ढोसा सही तरीके से फूल सके और उसमें कुरकुराहट आए।

तवा का चयन:

ढोसा बनाने के लिए तवा का चयन भी महत्वपूर्ण है। नॉन-स्टिक तवा से ढोसा बनाना आसान होता है और इससे ढोसा आसानी से उलटने में बना रहता है। तवा को ठंडा करने के बाद तेल लगाएं और ढोसा बैटर को धीरे से फैलाएं।

मास्टर ढोसा बनाने का धैर्य और सही तकनीक का अभ्यास:

DHOSA सारे साउथ इंडियन खाने के स्वाद को एक साथ मिलाता है और इसे बनाने में धैर्य और सही तकनीक का अभ्यास करने से आप एक मास्टर ढोसा बन सकते हैं। ढोसा को हरी धनिया और पुदीना चटनी के साथ सर्व करने से उसका स्वाद और भी बढ़ जाता है। साथ ही, सांबार के साथ परोसा जाना ढोसा को और भी रूचिकर बना देता है।

DHOSA बनाना एक कला है और सही सामग्री, फिरेंटेशन, और पकाने की तकनीक का ज्ञान से ही यह स्वादिष्ट और कुरकुरा बन सकता है। ढोसा एक विशेष भारतीय व्यंजन है जो सभी को प्रिय है और इसे बनाने में समर्थ होना एक खास बात है।

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
छोटे बच्चों की शरारती हरकतें, जो हर बच्चा करता है लग्ज़री कारों का रेट जानके आप भी हो जायेगे शौक़ जाने आज के पेट्रोल का बदलाव किस राज्य में कितना है क्या आपको पता है दूध पीने से अनेक बीमारियां पैदा हो सकती है प्रकृति से इतना प्यार क्यों लोग करते है, देखे सोशल मिडिया के फायदे जिसे सबको जानना जरूरी है Bitcoin की अजीबो गरीब बातें जो सबको पता होना चाहिए रोजाना केला खाने के अनेकों फायदे हैं भगवान कृष्ण की 7 अद्भुत तस्वीर व्यायाम करने से शरीर में होते है ये फ़ायदे