राज्योत्सव में तीन दिनों तक होंगे रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम

  • पहले दिन बस्तर बैंड और गुजरात के कलाकारों की प्रस्तुति
  • सांस्कृतिक संध्या में दो नवम्बर को रायपुर के
  • दिव्यांग कलाकारों का भी होगा कार्यक्रम
  • अपर मुख्य सचिव ने अधिकारियों के साथ लिया जायजा

 

रायपुर.  छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण की 18वीं वर्षगांठ के अवसर पर राजधानी रायपुर में आयोजित किए जा रहे राज्योत्सव में इस बार तीन दिनों तक सांस्कृतिक संध्या के अंतर्गत रंगारंग कार्यक्रम होंगे। आयोजन यहां एक नवम्बर से तीन नवम्बर तक ग्राम तूता (अटल नगर) स्थित पंडित श्यामा प्रसाद मुखर्जी उद्योग एवं व्यापार परिसर में किया जाएगा। आयोजन की तैयारियां युद्ध स्तर पर चल रही है।

अपर मुख्य सचिव श्री आर.पी. मंडल ने आज ग्राम तूता आयोजन स्थल पर अधिकारियों के साथ पहंुचकर तैयारियों का जायजा लिया। उन्होंने बैठक व्यवस्था, यातायात और पार्किंग व्यवस्था, सांस्कृतिक कार्यक्रम आदि के बारे में सभी संबंधितों विभागों के अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए। उल्लेखनीय है कि राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल मुख्य अतिथि की आसंदी से एक नवम्बर को शाम सात बजे राज्योत्सव और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का शुभारंभ करेंगी। समापन समारोह तीन नवम्बर को रात्रि 7.30 बजे आयोजित किया जाएगा। छत्तीसगढ़ लोक आयोग के प्रमुख लोकायुक्त न्यायमूर्ति श्री टी.पी. शर्मा राज्योत्सव के समापन समारोह के मुख्य अतिथि होंगे। राज्योत्सव के तीन दिवसीय आयोजन में प्रतिदिन शाम 6 बजे से प्रदेश सरकार के संस्कृति विभाग द्वारा रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा।

सांस्कृतिक संध्या पहले दिन एक नवम्बर को बस्तर बैंड के कलाकार अपनी प्रस्तुति देंगे। उनके कार्यक्रम के बाद ’एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ अभियान के तहत गुजरात राज्य के कलाकारों द्वारा और उनके बाद मुम्बई के पार्श्वगायक श्री नीति मोहन और उनकी कला मंडली द्वारा कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाएंगे। दूसरे दिन दो नवम्बर को राजधानी रायपुर स्थित दिव्यांगों की संस्था ’कोंपलवाणी’ के कलाकार और रायपुर के ही श्रीराम संगीत महाविद्यालय तथा कमलादेवी संगीत महाविद्यालय के कलाकारों के कार्यक्रम होंगे। उनके बाद सुश्री अंकिता राउत द्वारा ओड़िसी नृत्य का प्रदर्शन किया जाएगा। रजी मोहम्मद और उनकी टीम के कलाकार भी अपनी संगीतमय प्रस्तुति देंगे। तीसरे दिन तीन नवम्बर को तृतीय लिंग समुदाय के कलाकार भी अपनी कला का प्रदर्शन करेंगे। उनके कार्यक्रम के बाद इंदिरा कला एवं संगीत विश्वविद्यालय खैरागढ़ के कलाकारों के द्वारा और मुम्बई के संगीतकार मोण्टी शर्मा और उनकी टीम के द्वारा अपनी प्रस्तुति दी जाएगी।

अपर मुख्य सचिव आर.पी. मंडल के साथ आज आयोजन की तैयारियों के लिए स्थल निरीक्षण के दौरान ग्रामोद्योग विभाग के सचिव हेमंत पहारे, बीज निगम के प्रबंध संचालक आलोक अवस्थी, जनसम्पर्क विभाग के संचालक चंद्रकांत उईके और संस्कृति विभाग के संचालक तारण प्रकाश सिन्हा सहित अन्य संबंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *