2021 के बाद जर्मनी की चांसलर नहीं रहेंगी मर्केल

बर्लिन। दुनिया की सबसे ताकतवर महिलाओं में शुमार जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल 2021 में अपना कार्यकाल पूरा होने के बाद वह एक और कार्यकाल के लिए दावा नहीं ठोकेंगी। चांसलर के रूप में यह उनका अंतिम कार्यकाल होगा। उनका यह फैसला यूरोप की राजनीति में उनके 13 साल के दबदबे के अंत की शुरुआत होगी।

समझा जा रहा है कि मर्केल (64) ने कई राजनीतिक संकटों और क्षेत्रीय चुनावों में पराजय से गठबंधन के ढुलमुल स्थिति में आने के बाद यह निर्णय लिया है। बर्लिन में अपनी पार्टी मध्य-दक्षिणपंथी क्रिश्चियन डेमोक्रेट (सीडीयू) नेताओं के साथ बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए मर्केल ने कहा कि आज नया अध्याय शुरू करने का वक्त है। सबसे पहले मैं यह बता दूं कि पार्टी की अगली बैठक दिसंबर में हैम्बर्ग में होगी। मर्केल ने साफ किया कि वह दिसंबर में पार्टी चेयरमैन के पद के लिए फिर से मैदान में नहीं उतरेंगी। वह पार्टी में इस पद पर 2000 से हैं। एंजेला मर्केल पिछले 13 साल से जर्मनी की चांसलर हैं। वो सबसे पहली बार 2005 में इस पद पर काबिज हुईं। 14 मार्च, 2014 को वह चौथी बार जर्मनी की चांसलर बनीं। फो‌र्ब्स ने 2014 में विश्व के सबसे प्रभावशाली लोगों की सूची में मर्केल को महिलाओं में सबसे ताकतवर करार दिया था। जबकि 2013 की संयुक्त सूची में उन्हें पांचवां स्थान मिला था। वहीं 2012 की जारी संयुक्त सूची में उन्हें दूसरा स्थान मिला था।

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *