भारतीय मूल की महिला बन सकती है अमेरिका के सुप्रीम कोर्ट की जज

वॉशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारतीय मूल की अमेरिकी महिला पर भरोसा जताया है। रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रंप ने वॉशिंगटन डीसी की संघीय अदालत में सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के पद के लिए भारतीय मूल की एक अमेरिकी महिला का साक्षात्कार लिया है। उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश ब्रेट कैवनॉग के स्थान पर नियुक्ति करने के लिए यह इंटरव्यू किया गया है।

डीसी सर्किट कोर्ट में न्यायाधीश के पद के लिए व्हाइट हाउस के पूर्व वकील डॉन मैकगेन ने भारतीय मूल की अमेरिकी महिला नेओमी जहांगीर राव (45) के नाम की सिफारिश की है। राव वर्तमान में सूचना एवं नियामक मामलों के कार्यालय की प्रशासक हैं। सूत्रों के हवाले से वेबसाइट ने बताया है कि ट्रंप उनके (नेओमी) नाम में इसलिए दिलचस्पी ले रहे हैं, ताकि वह कैवनॉग के पुराने पद पर किसी अल्पसंख्यक महिला को नियुक्त कर सकें। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस क्लेरेंस थॉमस की पूर्व क्लर्क नेओमी जहांगीर राव को जुलाई 2017 में 54-41 वोट के साथ सीनेट द्वारा सूचना और नियामक मामलों के कार्यालय का नेतृत्व करने के लिए चुना गया था। ये एजेंसी कार्यकारी शाखा नियमों की समीक्षा करती है।

कैवनॉग पर लगे यौन शोषण के आरोपों के कारण संघीय अदालत में सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के पद की कुर्सी फिलहाल खाली है। जानकारी के मुताबिक, इस पद को भरने के लिए ट्रंप कई उपयुक्त व्यक्तियों का साक्षात्कार ले रहे हैं। इस प्रतिष्ठित अमेरिकी संघीय अदालत में श्रीनिवासन एक अन्य भारतीय-अमेरिकी हैं, जिनका नाम भी लिस्ट में लिया जा रहा है। एक स्रोत ने वेबसाइट को बताया कि साक्षात्कार में ट्रंप पर राव का अच्छा इम्प्रेशन नहीं रहा। समाचार पोर्टल ने कहा, ‘ट्रंप के राव से मिलने के तुरंत बाद दो सूत्रों ने बताया कि राष्ट्रपति उनसे प्रभावित नहीं थे।’ हालांकि ‘एक्सियोस’ ने तीसरे स्रोत का जिक्र करते हुए कहा, ‘हां, लेकिन तीसरे स्रोत (जो राष्ट्रपति ट्रंप के बेहद नजदीक है) मुताबिक, राव पर वे अपने प्रारंभिक फैसले पर पुनर्विचार कर सकते हैं।’ गौरतलब है कि ब्रेट कैवनॉग यौन उत्पीड़न के आरोपों को लेकर हाल ही में विवादों में रहे थे। ब्रेट पर क्रिस्टीन ब्लेसी फोर्ड नाम की महिला ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। ब्लेसी का आरोप लगाया है कि 1980 में एक पार्टी के दौरान कैवनॉग ने उनके साथ जबरदस्ती की थी। हालांकि, ट्रंप इस मामले में कैवनॉग का बचाव कर रहे हैं। अब जो खबर सामने आ रही है, उससे यह लगता है कि ट्रंप विवाद को खत्म करने के प्रयास कर रहे हैं।

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *